अमेरिका के खिलाफ यूएनएचआरसी में चीन लाएगा प्रस्ताव, पाकिस्तान की मुसीबत बढ़ी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन अफगानिस्तान में अमेरिका की कारवाई और अफगानिस्तान में मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन के आरोपों के तहत यह प्रस्ताव लाकर अमेरिका के बदनाम करने के लिए इस मंच का इस्तेमाल कर रहा है।

यूएनएचआरसी में चीन का प्रस्ताव

जिनेवा में हो रहे 48वें संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (United Nation Human Rights Council) की बैठक में चीन अमेरिका के खिलाफ एक संयुक्त प्रस्ताव लाने की तैयारी में है। इसके लिए चीन ने पाकिस्तान का भी साथ मांगा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन अफगानिस्तान में अमेरिका की कारवाई और अफगानिस्तान में मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन के आरोपों के तहत यह प्रस्ताव लाकर अमेरिका के बदनाम करने के लिए इस मंच का इस्तेमाल कर रहा है।

चीन ने खोला मोर्चा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन ने इसके लिए पाकिस्तान के साथ-साथ रूस, बेलारूस, सूडान, जिम्बाब्वे, क्यूबा, वेनेजुएला, बोलीविया, श्रीलंका, सीरिया और ईरान जैसे देशों के साथ संपर्क में है। चीन के कोशिश है कि सभी देशों की मदद से अमेरिका के खिलाफ संयुक्त प्रस्ताव जारी करवाया जा सके।

पाकिस्तान के लिए मुश्किल समय

अमेरिका के खिलाफ चीन के इस रूख को लेकर पाकिस्तान दुविधा में है। पाकिस्तान जहां चीन की नाराजगी मोल नहीं लेना चाहता वहीं अमेरिका के खिलाफ जाना उसके लिए भविष्य में नई मुसीबत ला सकता है। अब पाकिस्तान ने यह फैसला किया है कि वह इस प्रस्ताव से दूर रहेगा।

अफगानिस्तान से वापसी के बाद अब अमेरिका पूरी तरह चीन पर केंद्रित होना चाहता है। इसके तहत अमेरिका ने सऊदी अरब में तैनात पैट्रियट मिसाइल सिस्टम और टर्मिनल हाई एल्टिट्युड एरिया डिफेंस सिस्‍टम को हटा दिया है।

See also  अमेरिका ने लिया बदला, मारा गया काबुल ब्लास्ट का IS मास्टरमाइंड आतंकी