लखीमपुर हिंसा को लेकर किसान अड़े, बोले – दोषियों की गिरफ्तारी के बाद ही होगा अंतिम संस्कार

लखीमपुर हिंसा के लिए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को जिम्मेदार ठहराते हुए किसानों ने आरोपित की गिरफ्तारी होने तक शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है।

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में 4 किसानों की मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। किसान नेताओं ने मृत किसानों के शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। किसानों का कहना है कि पहले दोषियों की गिरफ्तारी की जाए और उस पर कार्रवाई की जाए तभी हम अंतिम संस्कार करेंगे।

लखीमपुर हिंसा के लिए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को जिम्मेदार ठहराते हुए किसानों ने आरोपित की गिरफ्तारी होने तक शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। बता दें कि इस मामले में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे समेत 14 लोगों के खिलाफ हत्या और अपराधिक साजिश का मुकदमा दर्ज करवाया गया है।

लखीमपुर के तिकुनिया थाने में उनके खिलाफ हत्या, आपराधिक साजिश, दुर्घटना और बलवा की धाराओं में एफ आई आर दर्ज करवाई गई है। बेटे पर लगे आरोपों को लेकर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने सफाई देते हुए कहा कि कुछ उपद्रवी तत्वों ने उनकी गाड़ियों पर पथराव किया। लाठी डंडे से बाहर करने शुरू किए। फिर उन्हें खींचकर लाठी-डंडों और तलवारों से मारा पीटा। उन्होंने कहा कि घटना का वीडियो हमारे पास है।

केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि मेरा बेटा कार्यक्रम खत्म होने तक कार्यक्रम स्थल पर ही था, इन लोगों ने जिस तरह की घटनाएं की है अगर मेरा बेटा वहां पर होता तो वह उसकी भी पीट कर हत्या कर देते।

गौरतलब है कि लखीमपुर में रविवार को ज मंत्रियों के दौरे को लेकर हिंसा भड़क गई थी। इस हिंसा में 8 लोगों की मौत हो गई। इसमें 4 किसान हैं। मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कर लिया गया है। बता दें कि देर रात कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी भी मौके पर पहुंची। थाना के बाद में उन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

See also  राबिया हत्याकांड: पुलिस ने सुलझाई गुत्थी, आरोपी ने ही की थी राबिया की हत्या