Global Hunger Index 2021 में भारत की रैंकिंग गिरकर 101वें स्थान पर, पाकिस्तान और बांग्लादेश का प्रदर्शन बेहतर

ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 ने भारत की रैंकिंग 116 देशों में से 101वां स्थान पर दिया है। 2020 में 107 देशों में भारत 94वें स्थान पर था। 2021 की रैंकिंग के अनुसार, पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल ने भारत से बेहतर प्रदर्शन किया है।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 ने भारत की रैंकिंग 116 देशों में से 101वां स्थान पर दिया है। 2020 में 107 देशों में भारत 94वें स्थान पर था। 2021 की रैंकिंग के अनुसार, पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल ने भारत से बेहतर प्रदर्शन किया है।

आयरिश सहायता एजेंसी (Irish aid agency) कंसर्न वर्ल्डवाइड और जर्मन संगठन वेल्ट हंगर हिल्फ़ द्वारा तैयार 2021 की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में भूख का स्तर ‘खतरनाक’ है।

भारत का GHI स्कोर क्या है

भारत का ग्लोबल हंगर इंडेक्स (जीएचआई) स्कोर 2000 में 38.8 से गिरकर 2012 से 2021 के बीच 27.5 से 28.8 के बीच रह गया है।

जीएचआई स्कोर की गणना चार मापदंडों पर की जाती है – अल्पपोषण, बच्चे की बर्बादी (पांच साल से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत, जिनका वजन उनकी ऊंचाई के लिए कम है, तीव्र अल्पपोषण को दर्शाता है), बाल स्टंटिंग (पांच साल से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत जिनकी ऊंचाई कम है) उनकी आयु, चिरकालिक अल्पपोषण को दर्शाती है) और बाल मृत्यु दर (पांच वर्ष से कम आयु के बच्चों की मृत्यु दर)।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में बच्चों की बर्बादी की दर 1998 और 2002 के बीच 17.1 प्रतिशत से बढ़कर 2016 और 2020 के बीच 17.3 प्रतिशत हो गई है। इसमें कहा गया है कि भारत सबसे अधिक चाइल्ड वेस्टिंग वाला देश है जहां कोविड-19 महामारी और इसके चलते लगाए गए प्रतिबंधों से लोग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

पड़ोसी देश जैसे नेपाल (76), बांग्लादेश (76), म्यांमार (71) और पाकिस्तान (92), जो अभी भी अपने नागरिकों को खिलाने में भारत से आगे हैं, वे भी ‘खतरनाक’ भुखमरी की श्रेणी में हैं।

See also  तालिबान का नया फरमान, महिला मंत्री नहीं बन सकती, उनका काम सिर्फ बच्चे पैदा करना

पाकिस्तान समेत इन देशों ने भारत से बेहतर प्रदर्शन दिखाया है

रिपोर्ट के अनुसार, पड़ोसी देश जैसे नेपाल (76), बांग्लादेश (76), म्यांमार (71) और पाकिस्तान (92) भी भुखमरी को लेकर चिंताजनक स्थिति में हैं, लेकिन भारत की तुलना में ये सभी अपने नागरिकों को भोजन उपलब्ध कराने को लेकर बेहतर प्रदर्शन किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में कोविड-19 और महामारी संबंधी प्रतिबंधों की वजह से लोग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं, जहां दुनिया भर में बच्चों की वेस्टिंग की दर सबसे ज्यादा है।

जानते है की कौन कौन से देश ने सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया है

रिपोर्ट के माने तो चीन, ब्राजील और कुवैत सहित अठारह देशों ने पांच से कम के जीएचआई स्कोर के साथ टॉप स्थान को छुआ है। जीएचआई की रिपोर्ट के मुताबिक, पूरी दुनिया के लिए भूख के खिलाफ लड़ाई खतरनाक तरीके से पटरी से उतर रही है। वर्तमान अनुमानों के आधार पर, दुनिया और विशेष रूप से 47 देश 2030 तक निम्न स्तर की भूख को प्राप्त करने में असमर्थ होंगे।

कई मापदंडों पर भारत ने कुछ सुधार किया है

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में चाइल्ड वेस्टिंग की दर 1998 से 2002 के बीच 17.1 प्रतिशत से बढ़कर 2016 से 2020 के बीच 17.3 प्रतिशत हो गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत ने अन्य पैरामीटरों में सुधार दिखाया है जैसे कि बाल मृत्यु दर, बाल स्टंटिंग की व्यापकता और अपर्याप्त भोजन के कारण अल्पपोषण की व्यापकता।