लखीमपुर केस – क्राइम ब्रांच के सामने पेश नहीं हुआ आशीष मिश्र, दूसरा नोटिस भेजा गया

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि, लखीमपुर की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है और मामले में जांच चल रही है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। हम प्रदेश के लोगों को भरोसा दिलाते हैं कि दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

लखीमपुर हिंसा में आशीष मिश्र को नोटिस

लखीमपुर खीरी कांड के बाद उत्तर प्रदेश में घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। आशीष मिश्र अबतक क्राइम ब्रांच के सामने पेश नहीं हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आशीष नेपाल भाग गया है। वहीं शिरोमणि अकाली दल का प्रतिनिधिमंडल आज लखीमपुर खीरी जाएगा। वहां पर प्रतिनिधिमंडल पीड़ित परिवारों से मुलाकात करेगा।

वहीं पंजाब से नवजोत सिंह सिद्धू शाम 4 बजे के करीब लखीमपुर पहुंच गए। सिद्धू ने मृतक लवप्रीत के घर पर परिजनों से मुलाकात की। इस बीच पुलिस ने मामले में एक आरोपी लवकुश को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया है। शुक्रवार को पुलिस ने उसे अदालत में पेश किया।

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि, लखीमपुर की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है और मामले में जांच चल रही है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। हम प्रदेश के लोगों को भरोसा दिलाते हैं कि दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा और आरोपी के लिए कोई पद या दबाव काम नहीं कर पाएगा।

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र ने कहा है कि उनका बेटा आशीष मिश्र आज यूपी पुलिस के सामने पेश नहीं होगा क्योंकि वह अस्वस्थ है। मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया जा रहा है। लखीमपुर हिंसा में मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्र को आज सुबह 10 बजे क्राइम ब्रांच के सामने पेश होना था, लेकिन वह पेश नहीं हुआ।

लखीमपुर हिंसा में नामजद आरोपी आशीष मिश्र को अबतक हिरासत में नहीं लिए जाने पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी व्यक्त की और यूपी सरकार से मामले में कई सवाल पूछा। कोर्ट ने पूछा कि हत्या के आरोपियों के अन्य मामलों में भी सरकार नोटिस भेजकर आरोपी को बुलाती है?

See also  तिहाड़ जेल में कैदियों के बीच हुई खूनी झड़प, तीन कैदी हुए घायल

कोर्ट ने पूछा कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री के बेटे को अबतक हिरासत में न लिए जाने का आधार क्या है? इसके जवाब में राज्य सरकार की तरफ से वकील हरीश साल्वे ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि किसानों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में गोली के निशान नहीं दिखे, इसलिए उन्हें नोटिस भेजा गया था।