गृह मंत्री अमित शाह के अध्यक्षता में सुरक्षा समीक्षा को लेकर उच्च अधिकारियों के साथ की बैठक

अगस्त 2019 में केंद्र द्वारा जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद अमित शाह का तत्कालीन राज्य का यह पहला दौरा है।

नई दिल्ली: गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की, उन्होंने वहा के स्थानीय नागरिकों, गैर-स्थानीय मजदूरों और अल्पसंख्यकों पर हमलों के मद्देनजर कश्मीर घाटी में आतंकवाद से निपटने के लिए उठाए गए कदमों की समीक्षा की। अधिकारियों के मुताबिक शाह ने श्रीनगर में राजभवन में हुई एक बैठक में सुरक्षा परिदृश्य की समीक्षा की और इसमें उपराज्यपाल मनोज सिन्हा समेत नागरिक प्रशासन के शीर्ष अधिकारी और सेना, सीआरपीएफ, पुलिस और अन्य एजेंसियों के वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी शामिल हुए।

अधिकारियों ने कहा कि गृह मंत्री को जम्मू-कश्मीर से आतंकवाद को खत्म करने के लिए उठाए गए कदमों और सुरक्षा बलों द्वारा उठाए गए घुसपैठ रोधी उपायों के बारे में जानकारी दी गई। शाह का कश्मीर दौरा अकेले अक्टूबर में घाटी में 11 नागरिकों के मारे जाने की पृष्ठभूमि में हो रहा है। मारे गए लोगों में पांच बिहार के मजदूर थे, जबकि दो शिक्षकों सहित तीन कश्मीर में अल्पसंख्यक समुदाय के थे।

शाह ने मारे गए इंस्पेक्टर परवेज अहमद के परिवार से भी मुलाकात की, जो पिछले महीने आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गए। अपनी यात्रा के दौरान, गृह मंत्री ने परवेज अहमद की पत्नी से मुलाकात की और सरकारी नौकरी के लिए आधिकारिक कागजात सौंपे। अमित शाह श्रीनगर पहुंचे और जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा और केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने उनका स्वागत किया।

See also  ममता बनर्जी के भतीजे की अमित शाह को चुनौती, कहा- बीजेपी से छीन लेंगे त्रिपुरा

बता दे की अगस्त 2019 में केंद्र द्वारा जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद अमित शाह का तत्कालीन राज्य का यह पहला दौरा है।

उनका दौरा हाल के हफ्तों में जम्मू-कश्मीर में लक्षित हत्याओं पर चिंताओं के बीच आया है, जिसमें मुख्य रूप से कश्मीर में अल्पसंख्यकों और गैर-स्थानीय लोगों को निशाना बनाया गया है। इस महीने आतंकी हमलों में प्रवासी मजदूरों सहित कुल ग्यारह नागरिक मारे गए थे।

शाह आज जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर और संयुक्त अरब अमीरात में शारजाह के बीच पहली सीधी अंतरराष्ट्रीय उड़ान का भी उद्घाटन करेंगे। वह जम्मू-कश्मीर के युवा मंडलों के सदस्यों के साथ भी बातचीत करेंगे। रविवार को अमित शाह जम्मू जाएंगे जहां वह जनसभा को संबोधित करेंगे – जन संवाद। वह फिर से श्रीनगर के लिए उड़ान भरेंगे जहां वह तीनों रातें बिताएंगे।

गृह मंत्री के केंद्र शासित प्रदेश के दौरे से पहले, श्रीनगर में कई यातायात प्रतिबंध लगाए गए हैं, जिनमें दोपहिया वाहन चलाने वालों को भी कड़ी सुरक्षा जांच के अधीन किया गया है। इसके अलावा, सुरक्षा उद्देश्यों के लिए कुल 50 केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की टीमों को जम्मू-कश्मीर में तैनात किया गया है।