कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन का गृह मंत्रालय ने दिया निर्देश, राज्यों को भीड़ पर नियंत्रण की जिम्मेदारी

मंत्रालय ने राज्यों को आगामी त्योहारों को देखते हुए बड़ी सभाओं से बचने की सलाह दी है। निर्देश में कहा गया है कि अति आवश्यक होने पर ही सभाएं करें। साथ ही सभाओं में कोरोना फैलने से रोकने के लिए स्थानीय प्रतिबंध लागू करें।

कोरोना गाइडलाइन

केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को आगामी त्योहारी सीजन के मद्देनजर कोरोना गाइडलाइन को लेकर निर्देश जारी किया है। गृह मंत्रालय के निर्देशानुसार, राज्यों से कहा गया है कि आगामी त्योहारी सीजन के दौरान कोई बड़ी भीड़ एकत्र न हो और जरूरत पड़ने पर कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए स्थानीय प्रतिबंध भी लगाई जाए।

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कोविड-19 दिशा-निर्देशों को एक महीने के लिए बढ़ा दिया है। अब यह 30 सितंबर तक लागू रहेगा। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कहा कि कुछ राज्यों में दिख रहे स्थानीय प्रसार को छोड़कर, वैश्विक महामारी की समूची स्थिति अब राष्ट्रीय स्तर पर काफी हद तक स्थिर दिखती है।

उन्होंने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे पत्र में कहा कि कुछ जिलों में उपचाराधीन मरीजों की संख्या और उच्च संक्रमण दर चिंता का विषय है। संबंधित राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासनों को, अपने जिलों में उच्च संक्रमण दर को देखते हुए, सक्रिय रूप से रोकथाम के उपाय करने चाहिए।

उन्होंने कहा कि “संभावित वृद्धि की चेतावनी के संकेतों को जल्दी पहचानना और प्रसार को रोकने के लिए उचित उपाय करना महत्वपूर्ण है। इसके लिए स्थानीय दृष्टिकोण की आवश्यकता होगी, जैसा कि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की 25 अप्रैल और 28 जून की सलाह में उल्लेख किया गया है।”

मंत्रालय ने राज्यों को आगामी त्योहारों को देखते हुए बड़ी सभाओं से बचने की सलाह दी है। निर्देश में कहा गया है कि अति आवश्यक होने पर ही सभाएं करें। साथ ही सभाओं में कोरोना फैलने से रोकने के लिए स्थानीय प्रतिबंध लागू करें।

See also  WHO ने चेताया, कोरोना के नए वेरिएंट MU में है वैक्सीन को भी मात देने वाले लक्षण

गृह मंत्रालय ने कहा कि सभी भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर कोविड संबंधी उपयुक्त व्यवहार को सख्ती से लागू किया जाना चाहिए। कोविड-19 के प्रभावी प्रबंधन के लिए पांच-स्तरीय रणनीति – जांच-संक्रमितों के संपर्कों की पहचान-उपचार-टीकाकरण और कोविड उपयुक्त व्यवहार के पालन पर ध्यान दिए रहने की आवश्यकता है।