तालिबानी कब्जे के बाद अफगानिस्तान से पैरालंपिक खिलाड़ियों को निकाला गया बाहर, सभी सुरक्षित

अंतरराष्ट्रीय पैरालंपिक समिति (आईपीसी) ने बताया कि अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद वहां से दो पैरा खिलाड़ियों को सुरक्षित बाहर निकाल दिया गया है लेकिन उसने उनके ठिकाने के बारे में जानकारी नहीं दी।

अंतरराष्ट्रीय पैरालंपिक समिति

टोक्यो। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से वहां पर हालात बदतर हैं। लोग देश छोड़ने के लिए काबुल एयरपोर्ट पर जमा हो रहे हैं। इस बीच गुरुवार को काबुल एयरपोर्ट पर धमाका हो गया। धमाके में 100 से अधिक लोगों को मारे जाने की खबर है।

इस बीच अंतरराष्ट्रीय पैरालंपिक समिति (आईपीसी) ने बताया कि अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद वहां से दो पैरा खिलाड़ियों को सुरक्षित बाहर निकाल दिया गया है लेकिन उसने उनके ठिकाने के बारे में जानकारी नहीं दी। इन खिलाड़ियों को टोक्यो पैरालंपिक खेलों से बाहर होने के लिये मजबूर होना पड़ा था।

बताया जा रहा है कि ताइक्वांडो के दो खिलाड़ियों जाकिया खुदादादी और हुसैन रसोली को टोक्यो पैरालंपिक खेलों में अफगानिस्तान का प्रतिनिधित्व करना था लेकिन तालिबान के कब्जे के बाद वे अपने देश में ही फंस गये।

आईपीसी प्रवक्ता क्रेगे स्पेन्स से जब इन खिलाड़ियों और उनके खेलों में भाग लेने की संभावना के बारे में पूछा गया, उन्होंने कहा, ‘‘स्थिति नहीं बदली है। हमने एकता प्रदर्शित करने के लिये उद्घाटन समारोह में (अफगानिस्तान का) ध्वज फहराया। दोनों खिलाड़ी अब अफगानिस्तान से बाहर है। उन्हें बाहर निकाल दिया गया है। हम जानते हैं कि वे कहां हैं।’’

बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबान के बाद अफगानिस्तान के खिलाड़ियों को पैरालंपिक खेलों से बाहर होना पड़ा था। काबुल में तालिबान के कब्जे के बाद वहां से सभी व्यावसायिक उड़ानें रद्द कर दी गई थी।

इस संबंध में आईपीसी प्रवक्ता क्रेगे स्पेन्स ने कहा कि हमारी प्राथमिकता अभी उनके खेल में भाग लेने पर नहीं बल्कि उनके स्वास्थ्य और सुरक्षा पर है तथा हम इसे सुनिश्चित करने के लिये संबंधित व्यक्तियों के साथ काम कर रहे हैं। सबसे महत्वपूर्ण उनकी सुरक्षा है और वे सुरक्षित हैं।

See also  तालिबान ने पहली बार भारत सरकार से की हवाई सेवाएं शुरू करने की अपील