देश में 100 करोड़ टीकाकरण के अवसर पीएम मोदी ने किया देश को संबोधित, कहा…

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'यह हमारे लिए गर्व की बात है कि भारत का टीकाकरण कार्यक्रम science-born, science-driven और science-based रहा है. टीकों के विकास से लेकर टीकाकरण तक, विज्ञान सभी प्रक्रियाओं का आधार रहा है.

भारत में कोरोना टीकाकरण

भारत में गुरुवार को 100 करोड़ का कोरोना टीकाकरण का आंकड़ा पार करने पर लोगों में खासा उत्साह है. प्रधानमंत्री ने भी लोगों को इस उपलब्धि पर बधाई दी है. शुक्रवार को पीएम मोदी ने इस अवसर पर राष्ट्र को संबोधित किया. राष्ट्र को पीएम मोदी के संबोधन लाइव –

राष्ट्र को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कवच कितना ही उत्तम हो, कवच कितना ही आधुनिक हो, कवच से सुरक्षा से पूरी गारंटी हो तो भी जबतक युद्ध चल रहा है हथियार नहीं डाले जाते. मेरा आग्रह है कि हमें अपने त्योहारों को पूरी सतर्कता के साथ ही मनाना है.

पीएम मोदी ने कहा, ‘पिछली दिवाली हर किसी के मन में एक तनाव था, लेकिन इस दिवाली 100 करोड़ वैक्सीन डोज के कारण एक पैदा हुआ विश्वास है. अगर मेरे देश की वैक्सीन मुझे सुरक्षा दे सकती है, तो मेरे देश में बने सामान मेरी दिवाली को और भी भव्य बना सकते हैं.’

पीएम मोदी ने कहा, ‘आज भारतीय कंपनियों को न केवल रिकॉर्ड निवेश मिल रहा है, बल्कि रोजगार सृजन भी हो रहा है. स्टार्ट-अप में रिकॉर्ड निवेश के साथ-साथ रिकॉर्ड स्टार्टअप यूनिकॉर्न भी विकसित किए जा रहे हैं. हमारे देश ने कोविन प्लेटफॉर्म की जो व्यवस्था बनाई है, वो भी विश्व में आकर्षण का केंद्र है. भारत में बने कोविन प्लेटफॉर्म ने न केवल आम लोगों को सहुलियत दी, बल्कि मेडिकल स्टाफ के काम को भी आसान बनाया है.’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘यह हमारे लिए गर्व की बात है कि भारत का टीकाकरण कार्यक्रम science-born, science-driven और science-based रहा है. टीकों के विकास से लेकर टीकाकरण तक, विज्ञान सभी प्रक्रियाओं का आधार रहा है. हमने महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई जन भागीदारी को अपनी पहली ताकत बनाया. देश ने अपनी एकजुटता को ऊर्जा देने के लिए ताली, थाली बजाई, दीए जलाए तब कुछ लोगों ने कहा था कि क्या इससे बीमारी भाग जाएगी? लेकिन हम सभी को उसमें देश की एकता दिखी, सामूहिक शक्ति का जागरण दिखा.’

See also  Republic Day Parade 2022: गणतंत्र दिवस परेड में प्रदर्शित होगी 12 राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और 9 मंत्रालयों की झांकी

पीएम मोदी ने कहा, ‘सबको साथ लेकर देश ने ‘सबको वैक्सीन-मुफ्त वैक्सीन’ का अभियान शुरू किया. गरीब-अमीर, गांव-शहर, दूर-सुदूर, देश का एक ही मंत्र रहा कि अगर बीमारी भेदभाव नहीं करती, तो वैक्सीन में भी भेदभाव नहीं हो सकता. ये सुनिश्चित किया गया कि वैक्सीनेशन अभियान पर वीआईपी कल्चर हावी न हो. भारत ने अपने नागरिकों को 100 करोड़ वैक्सीन डोज लगाई है और वो भी बिना पैसा लिए. 100 करोड़ वैक्सीन डोज का एक प्रभाव ये भी होगा कि अब दुनिया भारत को कोरोना से ज्यादा सुरक्षित मानेगी.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘जब 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई, तो भारत पर सवाल उठने लगे. क्या भारत इस वैश्विक महामारी से लड़ पाएगा? भारत दूसरे देशों से इतनी वैक्सीन खरीदने का पैसा कहां से लाएगा? भारत को वैक्सीन कब मिलेगी? भारत के लोगों को वैक्सीन मिलेगी भी या नहीं? क्या भारत इतने लोगों को टीका लगा पाएगा कि महामारी को फैलने से रोक सके? भांति-भांति के सवाल थे, लेकिन आज ये 100 करोड़ वैक्सीन डोज, हर सवाल का जवाब दे रही है.’