रसोई गैस और पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर मोदी सरकार पर राहुल गांधी का निशाना

राहुल गांधी ने कहा कि हमारी सरकार थी, तब क्रूड ऑयल की कीमत 105 डॉलर प्रति बैरल था और अब यह 71 डॉलर प्रति बैरल है। देश के सामने 1991 जैसा ही संकट पैदा हो रहा है। यह अर्थव्यवस्था की समस्या नहीं है बल्कि ढांचागत समस्या है।

मोदी सरकार पर राहुल का निशाना

कांग्रेस नेता और सांसद राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने देश में रसोई गैस की बढ़ती कीमतों और पेट्रोल-डीजल के दामों में बेतहाशा वृद्धि पर कहा कि ईंधन की कीमतों में जब भी इजाफे की बात कही जाती है तो कह दिया जाता है कि अंतरराष्ट्रीय कीमतों में इजाफा हो रहा है। यह बात गलत है।

राहुल गांधी ने कहा कि हमारी सरकार थी, तब क्रूड ऑयल की कीमत 105 डॉलर प्रति बैरल था और अब यह 71 डॉलर प्रति बैरल है। देश के सामने 1991 जैसा ही संकट पैदा हो रहा है। यह अर्थव्यवस्था की समस्या नहीं है बल्कि ढांचागत समस्या है।

राहुल गांधी ने इस स्थिति से निकलने के लिए सरकार के नीतियों में बदलाव की बात कही। उन्होंने कहा कि इस संकट से नीतियों में बदलाव किए बिना बाहर निकला नहीं जा सकता है।

उन्होंने कहा कि देश के युवाओं को यह सोचना चाहिए कि यह आपका पैसा है और इसे किसके हाथों में दिया जा रहा है। 23 लाख करोड़ रुपए की रकम किन हाथों में जा रही है। मोनेटाइजेशन प्लान से 6 लाख करोड़ रुपए जुटाने की बात की जा रही है। पीएम मोदी के ही 4 से 5 प्रिय मित्रों के हाथों में इसके तहत देश की संपत्ति चली जाएगी।

महंगाई समेत कई मुद्दों पर कांग्रेस का विरोध नजर नहीं आने के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि देश में अभिव्यक्ति को रोका जा रहा है। आप जानते हैं कि मीडिया को बोलने नहीं दिया जा रहा है। हमें संसद में भी रोका जा रहा है। लेकिन इससे गुस्सा बढ़ता जाएगा और रिएक्शन जबरदस्त होगा।

See also  नवजोत के नखरे नहीं सहेगी कांग्रेस, कांग्रेस ने विकल्प पर विचार करना शुरू किया

राहुल गांधी ने कहा कि हमारी सरकार के दौर में जब 105 डॉलर प्रति बैरल कच्चा तेल था तो देश में पेट्रोल की कीमत 71 रुपये लीटर थी। आज दुनिया में क्रूड 71 में है तो पेट्रोल की कीमत 100 रुपए के पार है।