Rakesh Jhunjhuwala: नहीं रहे शेयर मार्केट किंग राकेश झुनझुनवाला

दलाल स्ट्रीट के बिग बुल राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhuwala) का आज सुबह निधन हो गया। उन्होंने मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में 62 साल की उम्र में आखिरी सांस ली।

Rakesh Jhunjhuwala

नई दिल्ली: दलाल स्ट्रीट के बिग बुल राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhuwala) का आज सुबह निधन हो गया। उन्होंने मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में 62 साल की उम्र में आखिरी सांस ली। सुबह 6.45 पर उन्हें अस्पताल लाया गया था।

शेयर बाजार में 5 हजार रुपए से 43.39 हजार करोड़ रुपए का एम्पायर खड़ा करने वाले बिग बुल राकेश झुनझुनवाला के निधन की वजह अभी सामने नहीं आई है। राकेश झुनझुनवाला को भारत का वारेन बफेट भी कहा जाता है। झुनझुनवाला ने पिछले हफ्ते ही ‘अकासा’ एयरलाइन के साथ एविएशन सेक्टर में भी एंट्री ली थी। आखिरी बार उन्हें 7 अगस्त को अकासा के लॉन्च पर देखा गया था।

राजस्थानी परिवार में हुआ था जन्म

5 जुलाई 1960 के दिन मुंबई के एक राजस्थानी परिवार में राकेश झुनझुनवाला का जन्म हुआ। उनके पिता इनकम टैक्स कमिश्नर थे। Sydenham College से ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद झुनझुनवाला ने इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टेड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया में एडमिशन लिया।

झुनवाला और उनकी पत्नी का 45.97 फीसदी शेयर

अकासा एयर (Akasa Air Share) में सबसे अधिक बड़ी हिस्सेदारी राकेश झुनझुनवाला और उनकी पत्नी रेख की है। दोनों को मिलाकर इस एयरलाइन कंपनी में कुल हिस्सेदारी 45.97 फीसदी है। इसके अलावा विनय दुबे, संजय दुबे, नीरज दुबे, माधव भटकुली, पीएआर कैपिटल वेंचर्स, कार्तिक वर्मा भी अकासा एयर के प्रमोटर हैं।

राकेश झुनझुनवाला के बाद इसमें विनय दुबे की हिस्सेदारी 16.13 फीसदी है। अकासा एयर ने 13 अगस्‍त से बेंगलुरु-कोचि सेवा शुरू कर दी है। वहीं 19 अगस्‍त से बेंगलुरु-मुंबई और 15 सितंबर से चेन्‍नई-मुंबई के लिए अपनी सर्विस शुरू करेगी।

See also  Stock Market Updates: सेंसेक्स 1,300 अंक से अधिक गिर गया, निफ्टी 16,600 से नीचे, ओमाइक्रोन ने यूरोप, अमेरिका में बरपाया कहर

अभी कितनी है झुनझुनवाला की नेटवर्थ

भारत के वारेन बफे कहे जाने वाले राकेश झुनझुनवाला की कमाई का मुख्य जरिया शेयर बाजार है। झुनझुनवाला की इस सफल कहानी की शुरुआत महज पांच हजार रुपये से हुई थी। आज उनकी नेटवर्थ करीब 40 हजार करोड़ रुपये है। इसी सफलता के कारण झुनझुनवाला को इंडियन स्टॉक मार्केट का बिगबुल और भारत का वारेन बफेट कहा जाता है। जब आम इन्वेस्टर्स शेयर बाजार में पैसे गंवा रहे होते हैं, झुनझुनवाला उस समय भी कमाई करने में सफल रहते हैं।