तेल या घी का गिरना अपशकुन क्यों माना जाता है? कैसे करें इसके प्रभाव को कम

यदि अनजाने में फर्श पर तेल या घी गिर जाए तो उसे उसी बर्तन में उठाकर ना रखें जिससे वह गिरा है। गिरे हुए घी का इस्तेमाल करने से हर कार्य में बाधा आती है।

कई बार गलती से हाथ से छूट कर तेल गिर जाता है। ऐसा होने के बाद कई लोग मन में कई तरह की शंका लाने लगते हैं। कई लोग इसे बड़ा ही अपशकुन मांगते हैं। ज्योतिष के मुताबिक, तेल या घी का गिरना किस बात का संकेत होता है कि आपका बुरा समय शुरू होने वाला है। लेकिन इससे बचने के भी कई उपाय हैं। आइए जानते हैं इससे बचने के उपाय –

भारतीय संस्कृति में कोई भी मांगलिक कार्य सरसों के तेल के बिना नहीं किया जाता है। सरसों का तेल मांगलिक कार्य बहुत ही आवश्यक माना जाता है। सरसों का तेल शनि ग्रह का प्रतीक माना गया है, सनी को न्याय का देवता भी माना जाता है अगर गलती से सरसों का तेल गिर जाता है तो यह कार्यों में बाधाएं आने और धन हानि होने का संकेत होता है।

घी को बृहस्पति देव का प्रतीक माना जाता है। भगवान बृहस्पति देव को धर्म का देवता भी माना जाता है। घी का गिरना धर्म की हानि होने का संकेत होता है। ऐसा होने पर घर के सदस्यों के बीच मतभेद होने लगता है।

यदि अनजाने में फर्श पर तेल या घी गिर जाए तो उसे उसी बर्तन में उठाकर ना रखें जिससे वह गिरा है। गिरे हुए घी का इस्तेमाल करने से हर कार्य में बाधा आती है।

गिरे हुए तेल को उसी बर्तन में डालने या फिर इस्तेमाल करने से घर में गरीबी आती है। इसलिए ऐसा करने से बचना चाहिए।

तेल गिरने के बाद दोष हटाने के लिए रोटी या चावल में वह तेल लगा ले और इसे किसी जानवर को खिला दे। इससे यह दोष समाप्त हो जाएगा।

See also  Chaitra Navratri 4th Day: नवरात्रि दिन 4 तिथि, देवी कुष्मांडा पूजा विधि, मंत्र, शुभ मुहूर्त और महत्व