हरी धनिया के फायदे – हरी धनिया में छिपा है अच्छी सेहत का राज

धनिया के बीज में कई phytonutrients पाए जाते हैं जो फाइबर्स का भी एक प्रमुख स्रोत होते हैं। इसके अलावा धनिया में मैगनीज, आयरन, मैग्न‍िशियम भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

हरी धनिया के फायदे

भोजन में हरी धनिया का इस्तेमाल अक्सर हम करते हैं। हरी धनिया के कई फायदे होते हैं। कुछ लोग हरी धनिया को सब्जी में मिलाकर खाते हैं तो कुछ इसकी चटनी बनाकर सेवन करते हैं। धनिया की पत्ती की चटनी काफी स्वादिष्ट होता है। धनिया का इस्तेमाल भारत के सभी राज्यों में और विश्व में भी होता है।

धनिया के बीज में कई phytonutrients पाए जाते हैं जो फाइबर्स का भी एक प्रमुख स्रोत होते हैं। इसके अलावा धनिया में मैगनीज, आयरन, मैग्न‍िशियम भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। धनिया में विटामिन सी, विटामिन के और प्रोटीन भी होता है। आइए जानते हैं हरी धनिया के फायदे के बारे में –

हरी धनिया के पत्ते से होने वाले लाभ

1. हरी धनिया स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाले कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।

2. पाचन तंत्र के लिए भी हरी धनिया फायदेमंद होता है। यह लीवर की सक्रियता को बढ़ाने में मदद करता है।

3. डायबिटीज के मरीजों के लिए हरी धनिया का सेवन काफी फायदेमंद होता है। यह ब्लड शुगर के लेवल को नियंत्रित करने का काम करता है।

4. हरी धनिया फाइटोन्यूट्रिएंट्स रेडिकल डैमेज में सुरक्षा प्रदान करने का काम करते हैं। इसलिए हरा धनिया का सेवन जरूर करना चाहिए।

5. इसमें मौजूद विटामिन के अल्जाइमर की बीमारी में फायदेमंद होता है। इसके अलावा धनिया के सेवन से पेट भी स्वस्थ रहता है।

6. धनिया पत्ती में anti-inflammatory गुण पाए जाते हैं जो अर्थराइटिस की बीमारी फायदेमंद होते हैं।

See also  डायबिटीज की समस्या को कंट्रोल करने में चाय मददगार साबित हो सकती है

7. मुंह में यदि घाव हो गया है तो घाव को ठीक करने में भी ये काफी कारगर होता है। हरी धनिया में मौजूद एंटी-सेप्ट‍िक गुण मुंह के घाव को जल्दी भरने का काम करता है।

8. धनिया का सेवन नर्वस सिस्टम को सक्रिय बनाए रखने में भी मददगार होता है।

9. त्वचा संबंधी कई रोगों जैसे पिंपल्स होने की समस्या, ब्लैकहेड्स और सूखी त्वचा में हरी धनिया के फायदे होते हैं। इसके इस्तेमाल से इसे दूर किया जा सकता है।

10. हरी धनिया को सुबह के वक्त पानी में उबालकर पीने से पेट की पथरी यूरीन के माध्यम से निकल जाती है।