दिल्ली में इस बार भी रहेगी पटाखों की बिक्री पर रोक, केजरीवाल सरकार ने जारी किया आदेश

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बुधवार को इस संबंध में ट्वीट कर कहा कि पिछले 3 साल से दिवाली के समय दिल्ली के प्रदूषण की खतरनाक स्थिति को देखते हुए पिछले साल की तरह इस बार भी दिल्ली में हर प्रकार के पटाखों के भंडारण, बिक्री एवं उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जा रहा है।

अरविंद केजरीवाल

दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सर्दियों के मौसम में बढ़ते प्रदूषण पर काबू करने के उपाय कर लिए हैं। इसके तहत दिवाली पर दिल्ली में हर तरह के पटाखों के भंडारण, बिक्री एवं उपयोग पर पूरी तरह से रोक रहेगी। बता दें कि दिल्ली में हर साल दीपावली के दौरान प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर तक पहुंच जाता है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को इस संबंध में ट्वीट कर कहा कि पिछले 3 साल से दिवाली के समय दिल्ली के प्रदूषण की खतरनाक स्थिति को देखते हुए पिछले साल की तरह इस बार भी दिल्ली में हर प्रकार के पटाखों के भंडारण, बिक्री एवं उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जा रहा है, जिससे लोगों की जिंदगी बचाई जा सके।

अरविंद केजरीवाल ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि पिछले साल व्यापारियों द्वारा पटाखों के भंडारण के पश्चात प्रदूषण की गंभीरता को देखते हुए देर से प्रतिबंध लगाया गया था, जिससे व्यापारियों को काफी नुकसान हुआ था। लेकिन अब सभी व्यापारियों से अपील है कि इस बार पूर्ण प्रतिबंध को देखते हुए पटाखों का भंडारण न करें।

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री से चर्चा के लिए केजरीवाल ने मांगा समय

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने राजधानी दिल्ली में प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए और उपयोगी उपायों पर चर्चा के लिए मंगलवार को केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव से मुलाकात का समय मांगा है।

बता दें कि इससे पहले अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा था कि वह पूसा बायो-डीकम्पोजर की ऑडिट रिपोर्ट के साथ केंद्रीय पर्यावरण मंत्री से मुलाकात करेंगे और उनसे किसानों के बीच इसे मुफ्त वितरित करने के लिए दिल्ली के आसपास के राज्यों को निर्देश देने का भी आग्रह करेंगे।

See also  सुप्रीम कोर्ट को मिलेंगे नए जज, केंद्र सरकार ने 9 जजों के नाम को दी मंजूरी

बता दें कि बायो-डीकम्पोजर एक प्रकार का तरल पदार्थ है जो 15-20 दिनों में खेतों में मौजूद पराली को खाद में बदल सकता है। उन्होंने कहा था कि एक केंद्रीय एजेंसी द्वारा कराए गए ऑडिट में पूसा बायो-डीकम्पोजर का उपयोग काफी प्रभाव काफी असरदार पाया गया है। दिल्ली सरकार ने पिछले साल यहां भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों द्वारा तैयार तरल पदार्थ का प्रयोग किया था।