Green Tea: ‘ग्रीन टी’ क्या है, क्यों पीना चाहिए, जानिए इसके फायदे क्या क्या है

हमे कितनी मात्रा में और कितनी बार 'ग्रीन टी' पीनी है यह वास्तव में आपके व्यक्तिगत स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। हर दिन अलग-अलग मात्रा में ग्रीन टी आपको कई तरह से फायदा पहुंचा सकती है।

Green Tea: बहुत से लोग अपने दिन की शुरुआत स्टीमिंग कप कॉफी से करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक कप ‘ग्रीन टी’ के ढेर सारे फायदे होते हैं।

‘ग्रीन टी’ (Green Tea) पर स्विच करना, या कम से कम अपनी दिनचर्या में बदलाव करके ग्रीन टी को तरल पदार्थों के अपने दैनिक आहार में शामिल करना, एक अच्छा विचार है। चाय के उस प्याले में बहुत कुछ अच्छा होता है, जिसमें वसा जलाने के गुण और दिमाग को संतुलित रखने क्षमता शामिल है।

तो आइये जानते है की ये सुपरफूड है क्या, और इसके अचूक फायदे के बारे में।

क्या होता है ग्रीन टी? (What is Green Tea?):

चाय कोई भी हो, यह ‘कामेलिया साइनेन्सिस’ नाम के पौधा ही से ही बनती है। ‘कैमेलिया सिनेसिस’ की कई वैरायटी पायी जाती हैं। यह मूल रूप से पूर्वी एशिया में उगने वाला एक पौधा है, जो झाड़ी या पेड़ जितना बड़ा हो सकता है।

वर्तमान में ‘कामेलिया साइनेन्सिस’ पूरे एशियाभर में उगने के साथ-साथ मिडल ईस्ट और अफ्रिका के कुछ भागों में भी उगता है। यानि न सिर्फ चाय विश्व भर के लोगों की रसोई में पहुंची है, बल्कि इसका पौधा भी दुनिया के कई हिस्सों में उगने लगा है।

अब बात करे ‘ग्रीन टी’ की, तो खासतौर पर यह पूरी तरह से ‘कैमेलिया सीनेन्सिस’ की पत्तियों से बनाई जाती है, जो प्रसंस्करण के दौरान न्यूनतम ऑक्सीकरण से गुजरती हैं। यानी ‘ग्रीन टी’ बिना फरमेन्ट हुए पत्तों से बनाई जाती है।

एक तरफ जहां ‘ग्रीन टी’ चीन की संस्कृति से जुड़ी हुई है। वहीं जापान इसका केंद्र बिंदु रहा है। इसी सफर में अब यह पूरे एशिया में कई संस्कृतियों से जुड़ चुकी है।

See also  कोरोना ने बदली लाइफस्टाइल, 52 फीसदी भारतीयों ने शुरू की एक्सरसइज और हेल्दी फूड

हमे हर दिन कितनी ग्रीन टी पीनी चाहिए? (How Much Green Tea You Should Be Drinking Every Day?):

अब हमे कितनी मात्रा में और कितनी बार ‘ग्रीन टी’ पीनी है यह वास्तव में आपके व्यक्तिगत स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। हर दिन अलग-अलग मात्रा में ग्रीन टी आपको कई तरह से फायदा पहुंचा सकती है।

इंडियन मेडिकल थैरेपी में ग्रीन-टी या हरी चाय काे काफी फायदेमंद माना जाता है। ग्रीन-टी से आपका ब्लड प्रैशर कंट्रोल होता है और साथ में चोट को सही करने, डाइजेशन को सही करने, दिल और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करने में भी मदद मिलती है। ये चाय आपकी बॉडी के टेंपरेचर को भी मैनेज करती है।

कई मेडिकेशन रिपोर्ट ये भी कहती हैं कि ये चाय आपको वजन घटाने में भी मदद करती है और मोटापा आज सभी के लाइफस्टाइल की बड़ी परेशानी बना हुआ है। इससे टाइप-2 शुगर, एल्जाइमर और कई और बीमारियों से दूर रहने में भी मदद मिलती है। कुल मिलाकर ये चाय आपके लिए काफी फायदेमंद हैं।

ग्रीन टी आपकी फिटनेस के लिए भी काफी मदद गार है। इससे पुरानी बीमारियों से लड़ने में तो मदद मिलती ही है साथ में फिट रहने में भी ये चाय काफी मददगार है। ग्रीन टी रोज लेने से आपकी बहुत सी परेशानियां दूर हो सकती हैं और ये काफी फायदेमंद भी है।

कैसे बनाएं ग्रीन टी? (Green Tea Recipe in Hindi):

आजकल ज्यादातर लोग ‘ग्रीन टी’ बैग का इस्तेमाल करते हैं। इसको बनाने के लिए बस एक कप में उबला हुआ पानी डाले और ‘ग्रीन टी’ बैग को दो से तीन मिनट तक इसमें डुबाकर छोड़ दें।

See also  क्या आप भी सर्दियों में घूमने का प्लान बना रहे हैं, आइये हम बताते है भारत के कुछ बेहद ही शानदार जगहों के बारे में

अगर आप खुली पत्तियां इस्तेमाल कर रहे हैं तो पानी में इलायची और अदरक कूट कर डाले। जब पानी में उबाल आ जाए तो गैस बंद करके गर्म पानी में चाय की पत्तियां डाल दें और बर्तन को ढ़क दें। इसके बाद चाय छानकर पी लें।